रिश्ते मे थोड़ा झूठ भी ज़रूरी होता है

0
1014
sometimes lying is good for relationship
Image Source

वैसे तो हमें ज़िंदगी में कभी किसी से झूठ नहीं बोलना चाहिए, क्योंकि बचपन से ही हमें सिखाया जाता है झूठ बोलना बुरी बात है, और खासतौर पर पार्टनर से तो बिल्कुल भी झूठ नहीं कहना चाहिए, क्योंकि पति-पत्नी का रिश्ता तो टिका ही होता है विश्वास पर. लेकिन बावजूद इसके कुछ परिस्थितियों में थोड़ा झूठ बोलना ज़रूरी हो जाता हैं, क्योंकि तब शायद सच कहने पर हालात बिगड़ सकते हैं. चलिए हम आपको बताते हैं कि कभी-कभी झूठ बोलना क्यों जरूरी हो जाता है.

पज़ेसिव पार्टनर पजेसिव

आपको अगर घर आने में 10 मिनट भी देर हो जाए तो आपके पार्टनर 10 बार फोन करके पूछने लगते हैं कि कहां हो, कब आ रही हो. आप किसी गैर से मुस्कुराकर बात कर लें, तो वो जल-भुन जाते हैं. तो ऐसी स्थिति में ज़रूरी नहीं कि आप अपने पार्टनर से हमेशा सच ही कहें. हो सकता है आपके बीते दिनों की कुछ बातें जानने के बाद आप पर से उनका विश्वास टूट जाए और वो शक करने लगें, क्योंकि पज़ेसिव लो पार्टनर पर शक बहुत जल्दी करने लगते हैं. ऐसे में बेहतर होगा कि आप सच न ही बोलें.

एक्स की बात

अगर कभी आप दोनों के बीच हंसी-मज़ाक में ही सही एक्स को लेकर चर्चा हो रही हो तो भूलकर भी अपने एक्स के बारे में न बताएं. उनके पूछने पर थोड़ा झूठ बोल देने से कुछ बिगड़ेगा नहीं, मगर यदि आपने सच कह दिया जो ज़रूर बहुत कुछ बिगड़ जाएगा.

यह भी पढ़ेंः बॉयफ्रेंड से पति बनते ही लड़कों में आते हैं ये 4 बदलाव

ज़रूरी नहीं हर बात बताना

माना पति-पत्नी को हर चीज़ शेयर करनी चाहिए, मगर कुछ बातें ऐसी होती है जिसका ज़िक्र न करने में ही भलाई है. मान लीजिए आपके पति आपके किसी रिश्तेदार या दोस्त को पसंद नहीं करते और चाहते हैं कि आप भी उनसे न मिलें. लेकिन वो लोग आपके बहुत खास है और उनसे कभी-कभार मिल लेती है तो ज़रूरी नहीं कि ये बात आप पति को बताएं. रिश्ते में थोड़ी आज़ादी होनी चाहिए और हर बात की रिपोर्ट पति को देनी ज़रूरी नहीं है.

सेंसिटिव मुद्दों पर संभलकर बोलें

पति के परिवार वालों या किसी और संवेदनशील मुद्दे पर कुछ कहते समय हमेशा समझदारी से काम लें. ज़रूरी नहीं कि उन मुद्दों पर आपके सच बोलने के बाद भी पति आपकी बात सुन लें, जैसे उनकी मां के बारे में आपने कुछ कहा और वो सच भी है, बावजूद इसके वो अपनी मां की बुराई नहीं सुनेंगे. अब ऐसे में सच बोलने से क्या फायदा. बेहतर ही कि आप झूठ का ही सहारा ले लें.

यदि किसी सच से अपनों को ठेस पहुंचती है, तो उस सच से अछ्चा तो झूठ ही है, जो उनके चेहरे पर हंसी ले आए.

अधिक रिलेशनशिप के आर्टिकल के लिए क्लिक करें Relationship