रिसर्चः इस उम्र में करें शादी तो हैप्पी रहेगी मैरिड लाइफ

0
497
Research says this is the right age for marriage

शादी, इसके बिना रहना हमारे समाज में किसी चुनौती से कम नहीं है. खासतौर पर लड़कियां यदि 25-30 की हो जाए, तो रिश्तेदारों से लेकर पड़ोसियों तक के बीच चर्चा का विषय बन जाती है कि आखिर इसकी अभी तक शादी क्यों नहीं हुई. कानून 18 साल के बाद लड़कियों की शादी कभी भी हो सकती है, फिर भी शादी की सही उम्र क्या हो इसे लेकर हर किसी की सोच अलग होती है, अगर आप भी शादी करने की सोच रही हैं, लेकिन समझ नहीं आ रहा कि कब करें तो ये रिसर्च आपका काम आसान बना देगी, क्योंकि अमेरिका में हुई ये रिसर्च शादी की सही उम्र बताती है.

इस उम्र में करें शादी

28-32 साल

वैसे तो 18 साल की होते है परिवार में लड़कियों की शादी की बातें चलने लगती हैं, मगर 18-20 साल की उम्र में शादी करना सही नहीं है. इस उम्र तक लड़कियों की न तो पढ़ाई कंप्लीट हो पाती है और न ही वो करियर में ही कुछ कर पाती हैं. अमेरिका में हुए एक शोध की मानें तो शादी के लिए परफेक्ट उम्र 28 से 32 साल है, क्योंकि इस उम्र तक सभी अपने करियर में सेटल हो जाते हैं, फाइनेंशियल भी वो लगभग सिक्योर हो जाते हैं, टीनेज वाला अट्रैक्शन भी खत्म हो जाता है, ऐसे में इस उम्र में शादी करने से डिवोर्स की संभावना कम हो जाती है. इसके विपरीत 32 साल से ज़्यादा की उम्र में शादी करने पर डिवोर्स के चांसेस बढ़ जाते हैं. दरअसल, बहुत ज़्यादा मेच्योर होने पर हर किसी को एडजस्टमेंट करने में दिक्कत होती है और शादी में थोड़ा बहुत कॉम्प्रोमाइज़ और एडजस्टेमेंट तो लड़का-लड़की दोनों को ही करना पड़ता है.

यह भी पढ़ेंः ये है लड़कियों की वो 7 अदाएं जिन पर मर मिटते हैं लड़के 

Research says this is the right age for marriage

यह भी पढ़ेंः नई खोज: घर बैठे पता लगाएं की ऑफिस में पति किस लड़की के साथ गुटर गूं कर रहा है?
प्यार या दवाब में जल्दबाज़ी न करें

कभी किसी के प्यार में तो कभी घरवालों के दवाब के कारण कई लोगों जल्दी शादी कर लेते हैं और फिर बाद में पछताते हैं. आजकल के युवा किसी से प्यार होने पर घरवालों की मर्जी के खिलाफ शादी तो कर लेते हैं, मगर अधिकांश मामलों में ऐसी शादी टिक नहीं पाती. इसलिए बेहतर होगा कि करियर में सेटल होने के बाद ही शादी करें और 28 से 32 की उम्र तक आमतौर पर सभी अपने सपने पूरे कर लेते हैं ऐसे में शादी करके वो अपने पार्टनर को पूरी अटेंशन व समय दे पाते हैं, क्योंकि न तो उन्हें नौकरी ढूंढ़ने की टेंशन होती है और न ही सपनों के पीछे भागने की ज़रूरत.

अधिक रिलेशनशिप आर्टिकल्स के लिए क्लिक करें