आख़िर क्यों रिश्तों में होती है लव, सेक्स एंड मनी प्रॉब्लम (is love, sex or Money problem Affecting your relationship)

0
1483

शादी के कुछ समय बाद कपल्स के रिश्ते आने वाली समस्याओं के लिए आमतौर पर तीन चीज़ें ज़िम्मेदार हैं और वो हैं लव, सेक्स और मनी. कई कपल्स इनसे जुड़ी समस्याओं को नज़रअंदाज़ करके अपने रिश्ते की गाड़ी को आगे बढ़ाते रहते हैं, जबकि कुछ इन समस्याओं को सुलझाने की कोशिश किए बिना रिश्ता ही तोड़ देते हैं. चलिए जानते हैं कि आख़िर क्यों रिश्तों में होती है लव, सेक्स एंड मनी प्रॉब्लम (is this love, sex or Money problem Affecting your relationship) और कैसे करें इनसे डील?

अक्सर हम किसी भी चीज़ या समस्या को सिर्फ़ अपने ही एंगल से सोचते हैं. ज़रा गौर करिए कि यदि आपको पार्टनर से किसी तरह की समस्या या शिकायत है, तो ऐसा पॉसिबल है कि उन्हें भी आपके रवैये से शिकायत हो. आपकी बातों से उन्हें भी बुरा लगता हो? ऐसे में जबतक आप अपने तक ही सीमित रहेंगे सिर्फ़ अपने नज़रिए से चीज़ों को देखते रहेंगे, किसी समस्या का समाधान नहीं हो पाएगा. यदि आप चाहते हैं कि लव, सेक्स, मनी प्रॉबल्म का असर आपके रिश्ते पर न हो, तो समस्या को समझकर उसे सुलझाने की कोशिश करिए.

सेक्स प्रॉब्लम

यदि आप भी ये सोचते हैं कि सिर्फ़ पुरुषों को अपनी सेक्स लाइफ से शिकायत रहती है यानी बेड पर वो पार्टनर से ख़ुश नहीं रहते, तो आप ग़लत है. एक सर्वे में सामने आया है कि 64 फीसदी महिलाएं पार्टनर की परफॉर्मेंस से संतुष्ट नहीं हैं. ऐसे में रिश्ते की ताज़गी बनाए रखने के लिए दोनों पार्टनर का इस मुद्दे पर बात करना ज़रूरी है. जो पार्टनर ख़ुश नहीं है, उसे ये बात सामने वाले को बतानी ज़रूरी है, वरना समस्या सुलझने की बजाय बढ़ती जाएगी.

क्या करें?

  • संकोच छोड़कर पार्टनर से इस बारे में खुलकर बात करें. हो सकता है पार्टनर को पता ही न हो कि आप ख़ुश/संतुष्ट नहीं हैं, इसलिए बात करना ज़रूरी है.
  • बेझिझक उनसे पूछें कि बेड पर वो आपसे किस तरह के बिहेवियर की उम्मीद रखती हैं. किस बात से उन्हें ज़्यादा ख़ुशी मिलेगी.
  • यदि कपल्स को लगे कि दोनों इस समस्या को सुलझा नहीं पा रहे हैं, तो बना देर किए सेक्स थेरेपिस्ट की सलाह लें, हो सकता है कोई सीरियस प्रॉब्लम हो.

मनी मैटर

पैसों के मामले में यदि ट्रांस्पेरेंसी न हो, तो ये अच्छे से अच्छे रिश्ते को भी बिगाड़ सकता है. ये मेरे पैसे है मैं तुम पर क्यों ख़र्च करूं जैसी बातें रिश्ते में कड़वाहट घोल सकते हैं. हाल ही में हुए एक सर्व में सामने आया है कि आजकल कपल्स जॉइंट अकाउंट की बजाय सैपरेट अकाउंट रखना पसंद करते हैं. जानकार मानते हैं कि वर्किंग कपल्स के मामले में ये ट्रेंड सही है, यदि दोनों घर ख़र्च बराबर बांट लेते हैं तो. इससे किसी एक पर बर्डन नहीं होगा, साथ ही छोटे-मोटे ख़र्च के लिए उन्हें एक-दूसरे की इजाज़त लेने या हिसाब देने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.

क्या करें?

  • पार्टनर से खुलकर कह दें कि आपको हर महीने घर ख़र्च के लिए उनसे कितने पैसे चाहिए.
  • यदि दोनों वर्किंग हैं, तो आप ये डिसाइड कर सकते हैं कि एक सारे ख़र्च चलाए और दूसरा सेविंग करें, मगर इसमें दोनों को पूरी तरह ट्रांस्पेरेंट होना पड़ेगा.
  • यदि किसी तरह की आर्थिक समस्या आती है, तो मदद के लिए तैयार रहें.
  • एक-दूसरे से किसी तरह के लोन/उधार की बात न छुपाएं.
  • शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्न फायनांशियल गोल डिसाइड करें, जैसे किस उम्र तक आपको कितनी सेविंग करनी है, कार ख़रीदने के लिए कितने पैसे चाहिए आदि.

लव एंड कम्यूनिकेशन गैप

ज़्यादातर कपल्स को लगता है कि उनका पार्टनर न तो उनसे प्यार करता है और न ही उनकी बातों पर ध्यान देता है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि पति-पत्नी में से किसी एक न भी इस मुद्दे पर बैठकर आपस में बात करने की कोशिश कभी की ही नहीं. कई लोग रिलेशनशिप से जुड़े मुद्दे पर बात करना ज़रूरी नहीं समझते. जब आप बात ही नहीं करेंगे, तो कम्यूनिकेशन गैप तो आएगा ही न और जब कम्यूनिकेट ही नहीं करेंगे, तो प्यार कैसे जताएंगे.

क्या करें?

  • यदि किसी तरह की प्रॉब्लम हैं, तो बैठकर उस मुद्दे पर बात करें, कोई दूसरा काम करते-करते समस्या न बताएं. जब आप एक-दूसरे से बात कर रहे हों, तो अपना फोन या ईमेल चेक न करें.
  • एक समय निश्चित कर लें, जब दोनों फ्री होकर बात कर सकें.
  • यदि आपको लगता है कि डिस्कशन के दौरान दोनों में से कोई गुस्से में कुछ कह सकता है, तो बातचीत से पहले कुछ रूल्स बना लें, जैसे कोई एक-दूसरे के लिए अपशब्द का इस्तेमाल नहीं करेगा, एक-दूसरे के पैरेंट्स को बीच में नहीं लाएगा.
  • पार्टनर यदि कुछ कह रहा है, तो उसे ध्यान से सुनें. कंधे उच्चाकर ये न जताएं कि उसकी बातों में आपकी कोई दिलचस्पी नहीं है. आपकी बॉडी लैंगवेज से पार्टनर को महसूस होना चाहिए कि आप सचमुच समस्या को सुलझाना चाहते हैं.
  • जिस तरह आपको अपनी प्रॉब्लम इम्पॉर्टेंट लग रही है, उसी तरह पार्टनर को भी लग रही होगी, इसलिए ख़ुद बोलने के बाद उन्हें भी सुनें और समझे कि वो आपसे क्या चाहती/चाहते हैं.