पैरेंट्स के लिए क्यों मुश्किल भरा होता है सोमवार ? (Why Monday is not fun day for parents?)

0
545
busy monday for parents
Image Source

पैरेंटिंग यानी परवरिश आज के लिए चुनौतीभरा हो गया है. पहले की बात ही कुछ और थी. पैरेंटिंग को किसी काम की तरह नहीं लिया जाता था, लेकिन आज पैरेंट्स के लिए बच्चों को पालना एक चुनौती हो गया है. पैरेंट्स का कामकाज़ी होना और घर में नौकरानी के भरोसे बच्चे को छोड़ना इसमें और भी मुश्किल खड़ी कर रहे हैं. वैसे तो हर दिन पैरेंट्स के लिए चुनौतीभरा रहता है, लेकिन मंडे यानी ख़ासतौर पर सोमवार का दिन पैरेंट्स के लिए बहुत ही कठिन होता है. आख़िर क्यों मंडे को पैरेंट्स को ज़्यादा परेशानी होती है, आइए, हम आपको बताते हैं.

प्लान की कमी

मंडे सबके लिए मुश्किल भरा होता है. बात चाहे ऑफिस की हो या घर की मंडे आते ही मुश्किल शुरू हो जाती है. पैरेंट्स के लिए मंडे इसलिए बहुत बुरा हो जाता है, क्योंकि संडे की रात को वो प्लान नहीं कर पाते. जब संडे की प्लानिंग नहीं होती, तो मंडे बहुत ही बुरा साबित होता है.

क्या करें ?
ये बात आप भी जानते हैं कि संडे जितना फन डे होता है, मंडे की मॉर्निंग उतनी ही बोरिंग होती है, इसलिए अब से आप संडे की रात को ही पूरी प्लानिंग कर लें. सुबह क्या बनाना है, क्या काम है, सबकी प्लानिंग कर लें.

लेट नाइट मतलब लेट मॉर्निंग

आपका सोमवार इसलिए भी बोरिंग और मेसी हो जाता है, क्योंकि संडे की रात आप फ्री होकर जीते हैं. रात में देर तक जागना, टीवी देखना, खेलना आदि आपको सुबह देर से उठने पर मजबूर करता है. जब आप ख़ुद सुबह देर से उठती हैं, तो बच्चों को भी देर से ही जगाती हैं. ऐसे में एक ओर घर के लोगों के लिए नाश्ता, हसबैंड का ऑफिस और बच्चा, ये सब इतना मेसी हो जाता है कि दिन की शुरूआत ही काफ़ी बुरी हो जाती है.

क्या करें ?
अगर आप सोमवार को मेसी नहीं बनाना चाहतीं, तो संडे की रात जल्दी सोएं और सबसे बड़ी बात की बच्चे को जल्दी सुलाएं. इससे आप दोनों की मंडे मॉर्निंग होगी हैप्पी.

टाइम टेबल न जानना

मंड मुश्किल भरा इसलिए भी होता है, क्योंकि आप बच्चे का टाइम टेबल नहीं देखतीं. एक ओर घर का काम, सबकी टिफिन और दूसरी ओर बच्चे का बैग. आपको पता ही नहीं है कि आज बच्चे की किस नोटबुक को बैग में रखना है और कौन सी घर पर ही रहेगी. ऐसे में आपका झल्लाना और फिर बच्चे को डांटना, मतलब हो गया मंडे का वेलकम बुरे अंदाज़ में.

क्या करें ?
संडे रात को ही बच्चे का टाइम टेबल चेक कर लें और उसके हिसाब से बुक्स रखें. इससे सुबह आपका एक काम आसान हो जाएगा.

बच्चे का माइंड सेट

संडे का पूरा दिन हंसी-खेल में बीत गया, लेकिन क्या आपने बच्चे के दिमाग़ में ये भरा कि उसे कल सुबह स्कूल जाना है, नहीं न. यही कमी होती है, जो आपके मंडे को मुश्किल भरा बना देती है. रात में सोते समय बच्चे के दिमाग़ में किसी न किसी तरह से इस बात को डाल दें कि उसे कल स्कूल जाना है.

क्या करें ?
बच्चे से ये कहें कि उसे कल सुबह स्कूल की टिफिन में क्या ले जाना है. ऐसे में बच्चा उत्साहित होगा और आपको अपनी लिस्ट बताएगा. इससे सुबह आपकी मुश्किल आसान हो जाएगी. बच्चे का दिमाग़ अपने आप सेट हो जाएगा.

स्मार्ट टिप्स 
  • बच्चे को सुबह थोड़ा जल्दी उठाएं.
  • पहले बच्चे का काम करें बाद में घर का बाकी काम करें.
  • उसके यूनिफॉर्म रात में ही सेट कर लें.
  • सुबह टिफिन में क्या बनाना है, ये रात में ही तय कर लें.
  • सारे काम की ज़िम्मेदारी ख़ुद ही न लें.
  • मंडे ब्लूज़ से बचने के लिए सुबह 5 मिनट की एक्सरसाइज़ करें.
  • सुबह आप भी 10 मिनट पहले उठें.

अधिक Parenting Articles के लिए यहां क्लिक करें: PARENTING ARTILCES